योगी की अपील जो जहां है वही रहे, इसमें है भलाई

Body: 

लखनऊ, 27 मार्च, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के दृष्टिगत पूरे देश में लॉकडाउन की स्थिति के चलते उत्तर प्रदेश के जो लोग बाहरी राज्यों में हैं, उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। हमारी सरकार ने उनकी मदद के लिए वरिष्ठ आईएएस और आईपीएस अधिकारियों की टीम गठित की है, जो 24 घंटे हर सुविधा के लिए कार्य करेंगे।

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश-तेलंगाना, कर्नाटक, पंजाब, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, हरियाणा, बिहार, गुजरात, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश और दिल्ली में रह रहे उत्तर प्रदेश के लोगों को सभी तरह की सुविधाएं दिलाने के लिए एक-एक नोडल अफसर तैनात किए गए हैं। मुख्यमंत्री योगी ने स्वयं शुक्रवार सुबह महाराष्ट्र, उत्तराखंड और हरियाणा समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों से फोन पर बातचीत भी की है। उन्होंने मुख्यमंत्रियों से कहा है कि उत्तर प्रदेश के नागरिकों को सभी तरह की सुविधाएं मुहैया करवाई जाए, यूपी सरकार उसका पूरा खर्चा उठाने को तैयार है।   

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश की 23 करोड़ जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लाकडाउन की अपील को पूरी प्रतिबद्धता से सफल बनाने में जुटी है। क्योंकि उन्हें मालूम है कि ये स्वास्थ्य के लिए अति आवश्यक है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता के लिए 11 कमेटियों का गठन किया जा चुका है, जो हर एक फील्ड में काम करेंगी। लोगों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। 

 

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के बहुत से लोग दूसरे राज्यों में हैं। इनकी हर प्रकार की मदद के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है। योगी ने कहा कि प्रदेश के चीफ सेक्रेटरी राजेंद्र कुमार तिवारी ने पंजाब, हरियाणा और महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों के मुख्य सचिव को पत्र लिख कर आग्रह किया है कि यूपी के जो निवासी वहां रह रहे हैं, उन्हें पूरी सुविधा दी जाए। सभी राज्य सरकारें इस पर पूरी तरह से संवदेनशीतला के साथ कम कर रही हैं।

 

*12 राज्यों के लिए नोडल अधिकारी तैनात* 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि 12 राज्यों के लिए जो नोडल अफसर तैनात किए गए हैं, वे संबंधित राज्य के अधिकारियों से को-आर्डिनेशन बनाकर वहां रह रहे यूपी के नागरिकों को हर तरह की सुविधाएं मुहैया करवाने का काम करेंगे। हर एक नोडल अफसर के साथ एक-एक आईपीएस अधिकारी को भी तैनात किया गया है, जो यूपी के नागरिकों के उन राज्यों में राउंड द क्लाक समस्याओं का समाधान करेंगे।

  

• महाराष्ट्र - पीडब्लूडी के प्रमुख सचिव नितिन गोकरण

• आंध्र प्रदेश और तेलंगाना - सिंचाई विभाग के प्रमुख सचिव टी. वेंकटेश

• कर्नाटक - डीजी बेसिक शिक्षा विजय किरण आनंद

• पंजाब – प्रमुख सचिव ऊर्जा अरविंद कुमार

• पश्चिम बंगाल - अपर मुख्य सचिव नियोजन कुमार कमलेश

• राजस्थान - प्रमुख सचिव उद्यान बाबूलाल मीणा

• हरियाणा - प्रमुख सचिव औद्योगिक विकास आलोक कुमार

• बिहार - समाज कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार

• गुजरात - प्रमुख सचिव नगर विकास एवं आवास दीपक कुमार

• उत्तराखंड - प्रमुख सचिव होम गार्ड अनिल कुमार

• मध्य प्रदेश - पीडब्ल्यूडी के सचिव समीर वर्मा

• दिल्ली - रेजीडेंट कमिश्नर पीके सारंगी 

 

*जो जहां है, वहीं रुके, सरकार हर सुविधा देगी*

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी में रह रहे दूसरे राज्यों के नागरिकों को हमारी सरकार सभी सुविधाएं मुहैया करवा रही है। पैदल चलकर अपने गंतव्य तक जा रहे हैं लोगों से मुख्यमंत्री योगी ने अपील की है कि वे ऐसा न करे। वे जहां हैं, वहीं रहें। यह आपके और आपके परिवार के लिए बहुत ही आवश्यक है। इसमें सभी की भलाई है। केंद्र सरकार के साथ हमारी सरकार सभी की सुविधा के लिए वचनबद्ध है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीमावर्ती जनपदों के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि डोर स्टेप डिलीवरी पर पूरा ध्यान दें। उन्होंने कहा कि 18,000 से ज्यादा वाहन इसमें लगे हैं। 

 

*मुख्यमंत्री ने कम्युनिटी किचन का निरीक्षण किया*

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लखनऊ के जियामऊ स्थित कम्युनिटी किचन का निरीक्षण किया। इसी किचन में मजदूरों के साथ गरीबों के लिए भोजन बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के दौरान लखनऊ के साथ ही हर जिले में कम्युनिटी किचन खोलने का निर्देश दिया है। जिससे गरीबों को भोजन मिल सके। उन्होंने वाराणसी सहित प्रदेश के विभिन्न तीर्थ स्थानों पर फंसे अन्य राज्यों यथा गुजरात आदि के तीर्थ यात्रियों के लिए भी भोजन व सुरक्षा आदि की व्यवस्था सुनिश्चित किये जाने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

 

*धर्म गुरुओं का मिला सहयोग, धार्मिक स्थलों पर नहीं होगा कोई आयोजन*

उधर, लोकभवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद एवं प्रमुख सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि पूरे प्रदेश में लॉक डाउन को प्रभावी ढंग से लागू कराया जा रहा है। इसके तहत कई जनपदों में एफआईआर, चालान और गिरफ्तारी की कार्रवाई भी की गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसी भी धार्मिक स्थल पर कोई आयोजन न होने पाए इस संबंध में विभिन्न धर्म गुरुओं से सहयोग मांगा गया था, जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। राजस्व विभाग में कोविड-19 को आपदा घोषित करते हुए क्रय प्रक्रिया में एक महीने का शिथिलीकरण दे दिया गया है। दैनिक रूप से काम करने वाले मजदूरों के भरण-पोषण की सहायता के लिए 235 करोड़ रुपये विभिन्न जनपदों को दे दिया गया है।

 

*12 जनपदों में मिले 49 कोरोना पॉजिटिव मरीज*

 प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश के 75 जनपदों में से 12 जनपदों में 49 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं, जिसमें 12 पूरी तरह से ठीक हो गए हैं। बाकी की स्थिति स्थिर है। प्रदेश की आठ प्रयोगशालाओं में टेस्टिंग का काम चल रहा है। झांसी में प्रयोगशाला बहुत जल्द ही चालू कर देंगे। प्रयागराज और लखनऊ में एक और प्रयोगशाला तैयार करने जा रहे हैं। प्रदेश में इस समय 4255 आइसोलेशन बेड तैयार हैं। बहुत ही जल्द 15 हजार बेड की व्यवस्था उपलब्ध हो जाएगी। क्वॉरेंटाइन के लिए 6 हजार से ज्यादा बेड उपलब्ध हैं।

  

*उचित दाम पर मिलेगा आलू और आटा*

प्रमुख सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी ने कहा कि बीज, फर्टीलाइजर और प्लांट प्रोटेक्शन इक्यूपमेंट के शॉप खुले रखने का निर्देश जारी किया चुका है। हार्वेस्टर को पास देने के लिए जिलाधिकारियों को अधिकृत कर दिया गया है। कटाई के दौरान मजदूरों के बीच सोशल डेस्टेंसिंग बनी रहे, इसको लेकर व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। हमारे 1911 कोल्ड स्टोरेज चल रहे हैं। आलू की आवक अब सामान्य हो रही है। जल्द ही उचित दाम पर मार्केट में आलू मिलने लगेगा। वाजिब दाम पर लोगों को आटा मिले इसके लिए मिल्स को गेंहू उपलब्ध कराया जा रहा है।