नहाने गये चार दोस्तों में दो की डूबने से मौत

लखनऊ, गोमती नदी में सोमवार को नहाने गये चार दोस्त डूबने लगे। उनकी चीख-पुकार सुनकर मवेशी चरा रहा युवक मदद के लिए दौड़ा। उसने दो को बाहर निकाल लिया जबकि उनके दो साथियों को वह नहीं बचा सका। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और गोताखोरों की मदद से डूबे दोनों छात्रों के शव बाहर निकाले। चारों दोस्त इंटर के छात्र हैं। केजीएमयू के कुलपति कार्यालय के प्रभारी करुणा शंकर श्रीवास्तव लक्ष्मण विहार कालोनी पारा रोड राजाजीपुरम में रहते हैं। उनका इकलौता बेटा मयंक श्रीवास्तव उम्र करीब 18 वर्ष, राजाजीपुरम स्थित लखनऊ पब्लिक स्कूल में इंटर का छात्र था। मयंक का साथी पीयूष कांत वर्मा उम्र करीब 18 वर्ष, पुत्र इंदल वर्मा एकता नगर कैम्पवेल रोड बालागंज में रहता था। परिवार में मां ममता व बहन प्रिया हैं। उसी इलाके में रहने वाले प्रापर्टी डीलर संजय शुक्ल का बेटा सिद्धांत उम्र करीब 17 वर्ष, राजाजीपुरम स्थित सिटी कांवेंट स्कूल में इंटर का छात्र है। मयंक के साथ सेक्टर-डी राजाजीपुरम निवासी वाइन शॉप मालिक विनोद मिश्र का बेटा विधांशु मिश्र उम्र करीब 18 वर्ष, पढ़ता है। सोमवार करीब दस बजे मयंक, सिद्धांत, पीयूष व विधांशु स्कूटी से मड़ियांव स्थित पीपे वाले पुल पर पहुंचे। स्कूटी खड़ी करने के बाद मयंक व पीयूष गोमती नदी में नहाने के लिए उतर गये। पानी में खेलते-खेलते दोनों डूबने लगे। यह देख सिद्धांत व विधांशु मदद के लिए नदी में उतरे तो वे भी
डूबने लगे। दोनों ने मदद के लिए शोर मचाया। उनकी चीख-पुकार सुनकर मवेशी चरा रहा युवक मदद के लिए दौड़ा। उसने सिद्धांत व विधांशु को बाहर निकाला। वह जब तक डूब रहे अन्य दो लड़कों की मदद करता, दोनों नदी में गायब हो गये। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और गोताखोरों को बुलाया। गोताखोरों ने दोनों के शवों को बाहर निकाला। पुलिस ने घटना की सूचना परिवार वालों को दी । आनन-फानन में चारों छात्रों के घरवाले वहां पहुंचे। इंस्पेक्टर मड़ियांव रघुवीर सिंह ने बताया कि घटनास्थल के पास मयंक की स्कूटी मिली है। इसी से चारों दोस्त आये थे। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है

प्रकार :